IBPS RRB PO interview call letterCheck

X




IBPS competition Exam is a website where you will get daily updates about all the government competitions exams like bank, railways, UPSC, SSC, 10th, 12th etc. All latest news will be updated here daily about government competitions exams.syllabus,exam pattern,online form filing,old question paper,online e-books banks jobs,and other jobs,exam admit card, reference books and study material in Hindi and English language or audio video format

What is ER Diagram in DBMS- ER Notations, Symbol Study Notes




What is (ER Model) Entity Relationship Model in DBMS

Entity relationship model एक प्रचलित हाई लेवल मॉडल है इसका प्रयोग Database की कॉन्सेप्चुअल डाटा मॉडल के लिए किया जाता है, यह मॉडल डाटा को उनकी entity, relationship और attributes के रूप में प्रदर्शित करता है इस मॉडल के कुछ टर्म इस प्रकार है-

What is Entity – वह आधारभूत ऑब्जेक्ट्स जिसे ER मॉडल प्रस्तुत करता है यानिके रियल लाइफ में एक वस्तु जिसका अपना Independent Physical Existence है

What is Entity Set – किसी विशेष समय पर डाटाबेस में किसी विशेष एन्टिटी टाईप की सभी entitys का संकलन एन्टिटी सेट कहलाता है

Check Also -

What is Attributes – यह एक विशेष गुण है जो एन्टिटी को वर्णित करता है ये ऐट्रिब्यूट्स दो प्रकार के होते है जो निम्न्न प्रकार है –
1. Simple (Atomic) Attribute  2. Composite Attribute

What is Simple Attributes -वह एट्रिब्यूट होते है जिन्हें अलग नही किया जा सकता वह सिंपल एट्रिब्यूट कहलाते है

What is Composite Attributes -वह एट्रिब्यूट होते है जिन्हें छोटे-छोटे भागो में और उपभागो में तोडा जा सकता है जिनका अपना अर्थ होता है कम्पोजिट एट्रिब्यूट कहलाते है

What is Derived Attribute in ER Diagram – यह एट्रिब्यूट जो पहले से मोजूद एट्रिब्यूट के आधार पर गणना द्वारा निकाले जाते है Derived एट्रिब्यूट कहलाते है जैसे- किसी विशेष व्यक्ति के लिए उसकी आयु की गणना आज की current date व उस व्यक्ति की birth date से की जा सकती है, जिसमे Age को derived व birth date को स्टोर एट्रिब्यूट कहा जा सकता है





Relationship – यह एन्टिटी टाईप के बिच एक Association है

Relationship Type – यह संघो के सेट को वर्णित करता है


What is Degree of a Relationship in ER diagram – यह किसी प्रक्रिया में भाग ले रही एन्टिटी टाइप की संख्या है, दो डिग्री का रिलेशनशिप टाइप Binary Relationship कहलाता है-

Example of Binary Relationship – Works_For

उपरोक्त चित्र में r1 पहला बाइनरी रिलेशनशिप दर्शाता है

तीन डिग्री वाली रिलेशनशिप टर्नरी रिलेशनशिप (Ternary Relationship)कहलाती है

Relationship Set – यह r1, r2, r3...... का संकलन है, यदि R एन्टिटी टाइप के मध्य में एक n......ary रिलेशनशिप है
Example of Relationship Set – गणितीय रूप में यदि A व B दो सेट है
A = {a1 a2}, B = {b1, b2}
A x B = {(a1, b1) (a2, b2)}

R = {r1, r2}
= {(a1, b1) (a2, b2)}


What is Mapping Constraints – मैपिंग कंस्ट्रेंट्स दो प्रकार के होते है –






1. Cardinality Retios for Binary Relationship – यह रिलेशनशिप इन्सटेंस की संख्या को निर्धरित करता है जिसमे एक एन्टिटी भाग ले सकती है

Example – Work_For बाइनरी रिलेशनशिप टाइप में, DEPARTMENT: EMPLOYEE का कार्दिनालिटी रेशो- 1 : N हो सकता है


Participation Constraint & Existence Dependency – यह निर्धारित करता है की कोई एन्टिटी रिलेशनशिप द्वारा किसी अन्य एन्टिटी पर निर्भर है या नही

Participation Constraints Types-
1. Partial Participation    2. Total Participation

1. Partial Participation – ‘DEPENDENT_OF’ सबंध में EMPLOYEE का भाग Partial Participation कहलाता है

2.  Total Participation  - इसको एक्जिस्टेंस डिपेंडेंसी भी कहते है WORK_FOR सबंध में EMPLOYEE का भाग टोटल पार्टिसिपेशन कहलाता है जिसको निम्न्न चित्र के माध्यम से दर्शाया गया है





Key Attribute of अन Entity Type – एक एन्टिटी टाइप में सामान्यत: एक एट्रिब्यूट होता है जिसका मान अद्वितीय होता है यह मान हर रो में बिलकुल अलग होता है इस प्रकार के एट्रिब्यूट को की-एट्रिब्यूट कहते है

What is Mapping Cardinalties in ER diagram – ER model कुछ ऐसे constrants को समझाता है जिससे की डाटाबेस के constrants को कुछ हद तक समझाया जा सके

Mapping Cardinalties बताती है की किसी रिलेशनशिप में एक एन्टिटी कितनी एन्टिटीस से जुडी हुई है यह Cardinalties, Binary Relationship sets को समझाने के लिए प्रयोग की जाती है लेकिन ये उन्ही Relationship sets को समझाती है जिसमे दो से अधिक एन्टिटी सेट भाग ले रहे हो, किसी बाइनरी रिलेशनशिप सेट लिए अगर एन्टिटी सेट A अथवा B है तो Cordinalties इनमे से एक होगी जो निम्न्न प्रकार है –





What is One-to-One Mapping- इस सेट में A की हर एन्टिटी ज्यादा से ज्यादा B की एक एन्टिटी से जुड़ सकती है


What is One-to-Many Mapping -  इस प्रकार के बाइनरी सेट में A की हर एक एन्टिटी B की शून्य या उससे अधिक किसी भी संख्या तक एन्टिटीज से जुड़ सकती है

What is Many-to-One Mapping – इस प्रकार के सेट में A की एन्टिटीज किसी भी संख्या तक B की एक एन्टिटी से जुड़ सकती है

What is Many-to-Many Mapping – इस mapping में A की कितनी भी एन्टिटीज B की कितनी भी एन्टिटीज से जुड़ सकती है


What is Entity Relationship Diagram (ER diagram) with Example
ER मॉडल उन सिस्टम का आसान रूप है जो पहले उपयोग में लाये जाते थे जो की Hierarchical and natwork model पर आधारित थे इस मॉडल की मदद से constraint के साथ साथ रिलेशनशिप को भी दर्शाया जा सकता है वेसे तो ये मॉडल फिजिकल डाटाबेस मॉडल को दर्शाता है लेकिन यह लॉजिकल डेटाबेस मॉडल के डिजाईन अथवा संचार हेतु प्रयोग में लाया जाता है

इस मॉडल में एक समान ढांचे के ऑब्जेक्ट्स को एन्टिटी सेट में इकठ्ठा कर लिया जाता है इस मॉडल में एक जैसे ढांचे के ऑब्जेक्ट को एन्टिटी सेट की रिलेशनशिप को ER रिलेशनशिप कहा जाता है और इसे 1 : 1, 1 : M, या M : N से दर्शाया जाता है, ER मॉडल तीन तरीके से डाटा को दर्शाता है-

1. Entity – एन्टिटी वास्तविक दुनिया की चीजो को एप्लीकेशन में दर्शाता है, एन्टिटी एक प्रकार का ऑब्जेक्ट है, इस प्रकार के ऑब्जेक्ट को एक ही प्रकार के एंट्रिबुट से दर्शाया जा सकता है, दो अलग अलग ऑब्जेक्ट्स को अलग अलग एन्टिटी सेट में डाल कर अलग पहचान उपलब्ध कराई जाती है

2. Relationship – एन्टिटीज के समागम को रिलेशनशिप कहते है एक प्रकार की रिलेशनशिप को इकठ्ठा करके उसे रिलेशनशिप सेट कहते है अगर किसी रिलेशनशिप में दो एन्टिटी सेट हो तो उसे बाइनरी रिलेशनशिप सेट कहते है

3. Attribute – एट्रिब्यूट, एन्टिटी एवं रिलेशनशिप को दर्शाता है
ER diagram में इन्सटेंस के स्थान पर स्कीमा को प्रस्तुत करने पर बल दिया जाता है, यह diagram कुछ boxes के द्वारा दर्शाया जाता है जिनका कार्य भिन्न होता है जो निम्न्न प्रकार है –

Entity Relationship diagram Symbol



                               

Entity Relationship Diagram Notations (ER diagram Notations)

ER Diagram in Software Engineering Style


What is Extended Entity Relationship Model (EE-R)

1970 के दशक तक डाटाबेस तकनीक के नये नये प्रयोग सामने आने लगे थे ये अधिकांशत डाटाबेस Engineering design and Maanufacturing, Telecommunication, image and Graphicss, database warehousing and www की इंडेक्सिंग के लिए ही उपलब्ध थे, इस प्रकार के डाटाबेस पुराने एप्लीकेशन की तुलना में ज्यादा जटिल आवश्यकता की मांग करता है इस प्रकार की आवश्यकता को सही प्रकार से प्रदर्शित करने के लिए डाटाबेस एप्लीकेशन के डिजाइनरो द्वारा अलग data model concept का यूज़ किया गया

इस नये ER model में इस प्रकार के सारे कॉन्सेप्ट्स का प्रयोग किया गया है जिससे की इसको EER model (Extended ER Model) कहते है, EER Model सही मॉडलिंग कॉन्सेप्ट्स जोकि ER मॉडल के है शामिल रखता है



Check Also-

Share:

0 comments:

Post a comment

Copyright © IBPS Exam Preparation Guide 2016-2017.......... Best Guidelines For Ibps Exam